मंगलवार, 9 दिसंबर 2008

मृत सागर से सागर के मरने तक

मृत सागर का यह द्रश्य जहां पानी में जीवन न होने के संकेत से भरा है ।
तो हम इंसान भी, सागर जहां जीवन समृद्ध है को मार देने का उपक्रम किये हैं ।

कोई टिप्पणी नहीं: