बुधवार, 21 जनवरी 2009

हैरान हूँ मैं

कल जैव विविधता पर एक कार्यशाला का आयोजन किया गया । जिला पंचायत द्वारा उक्त कार्यक्रम वन विभाग के जरिये कराये जाने की बात थी । उच्च कक्षाओं में पढ़ रहे स्कूल के छात्र , जीव विज्ञान के महाविध्यालयीन विभाग अध्यक्ष , वन विभाग के अधिकारी /कर्मचारी , बर्ड्स वाचिंग ग्रुप अध्यक्ष भारत गुप्ता , नगर में पर्यावरणविद के रूप में ख्याति पा चुके एवं पुरुस्कृत हो चुके श्री खुशाल सिंह जी पुरोहित , खेती की पुरानी नस्लों के संवर्धन में जुटे श्री राजेन्द्र सिंह जी , पर्यावरण प्रेमी सुभाष जी शर्मा की मौजूदगी रही जबकि कार्यक्रम के मुख्य वक्ता कृषि वैज्ञानिक श्री नरेन्द्र ताम्बे थे और आतिथ्य नगर विधायक श्री पारस सखलेचा और सी ई ओ श्री डॉ संजय गोयल साहब का था।
वक्ता संबोधन के रूप में मैंने एक सवाल सदन में रख कर जानना चाहा की मध्य प्रदेश के राजकीय पशु पक्षी के नाम उपस्थित समुदाय में कितने महानुभाव जानते हैं ?
जानकर अचरज होगा स्कुल के छात्रों में दो , एक प्रोफेसर, चार वनविभाग के कर्मचारी और बर्ड्स वाचिंग ग्रुप अध्यक्ष भारत गुप्ता को ही जवाब पता था जबकि सदन में लगभग १५० व्यक्ति मौजूद थे ।

3 टिप्‍पणियां:

रंजना ने कहा…

dekhiye...kya sthiti hai...kya kaha jay.

विनय ने कहा…

jo hoga bhal hoga, + soch


---आपका हार्दिक स्वागत है
चाँद, बादल और शाम

राज भाटिय़ा ने कहा…

यहां सब गोल माल ही है भाई