बुधवार, 25 मार्च 2009

नारायण और लक्ष्मी

लक्ष्मी जी धन से सम्बंधित हैं ।
नारायण लोकोपकार से ।
धन लोकोपकार के बगैर ठहरता नही है , यह ठीक प्रकार से जान लेने योग्य है ।
लोकोपकार के बगैर धन की प्राप्ति संकट लाती है यह भी जान लेना चाहिए ।
इसीलिए श्री विष्णु भगवान् जो लोकों के पालक हैं लक्ष्मी के साथ है ।
भगवान् सत्यनारायण जो प्रतीक है वो आपको सदैव उसी तरह बने रहने की प्रेरणा है जैसे किसी नौजवान को हल्दी लग जाने के बाद विवाह मंडप की और जाते समय व्यक्ति में मौजूद खूबियों को अभिव्यक्त करता है ।
वरमाला डाला प्रतिक सिर्फ़ नारायण की स्तुति कराता है ।

3 टिप्‍पणियां:

संगीता पुरी ने कहा…

बहुत सुंदर ...

neeshoo ने कहा…

यह पोस्ट आप और ज्यादा बड़ी लिखते तो मुझे बेहद अच्छा लगता । कभी कभी मैंने कुछ लोगों से इस विषय पर सुना है । रोचक लगा पर कम शब्दों में आपने समाप्त कर दिया । आगे कभी समय होने पर लिखियेगा ।

G M Rajesh ने कहा…

neeshuji
samjhdaar ko ishaaraa kaafi hota hai