सोमवार, 23 मार्च 2009

फ़िल्म "मनी है तो हनी है "

कल "मनी है तो हनी है " देखी


हँसी खेल में उद्यमी बनाने के सपने खूबी से दर्शित किए गए है ।


काफ़ी समय के बाद औधोगिक मूल्यों को समर्पित फ़िल्म देखनेका सौभाग्य मिला ।


निर्माता निर्देशक पटकथा लेखक को धन्यवाद !

1 टिप्पणी:

Madhaw Tiwari ने कहा…

जीवन में हमारे सामने कई तरह के सवाल आते हैं... कभी वो अर्थ के होते हैं... कभी अर्थहीन.. अगर आपके पास हैं कुछ अर्थहीन सवाल या दें सकते हैं अर्थहीन सवालों के जवाब तो यहां क्लिक करिए