गुरुवार, 31 दिसंबर 2009

बुधवार, 30 दिसंबर 2009

२००९ की सीख

एक सिफारिश पुनरावलोकन की कर रहा हूँ मित्रों , बीता जो बरस २००९ है क्या दे गया हमें । हमें याद क्यों रहेगा दरमियान जीवन में । क्या खूबसूरत सीखा गया हमें ये भी तो । आगे का कर गया मार्ग प्रशस्त है ।

स्वागत 2010




आसमान की रौशनी

उम्मीद की किरण

प्रकृति के नज़ारे

मन का हिरन

स्वागत २०१०

आलोकित कर जीवन

धन, उत्साह की कर भरपूर वर्षा

दौड़े दिमाग घोड़े सा

लिखू दोस्तों को जब अपना पत्र

उन्हें सदा लगे अपना सा

अलविदा २००९


अलविदा कहना किसी को
बड़ी कठिन बात है
मगर रोक नहीं सकते जिनको
याद भी तो आते हैं
बेबसी हमारी हो रही उजागर
बस इतना ही कहेंगे अलविदा २००९

मंगलवार, 29 दिसंबर 2009

आई मेड माई होम

फाउन्ड माय सेल्फ कम्फर्टेबल नाऊ
माय चाईल्ड वांट्स बाईक नाऊ
आई वेंट टू ब्रिंग अ टी वी
फाउन्ड एलेक्ट्रीसिटी अनअवेलेबल

चले हैं साथ मिल के .... चलेंगे साथ मिलकर


प्रदुषण के लिए एक सन्देश


यमराज नहीं लिखते अब मौत का तरीका .... यह कुछ और ही है

रेलवे ट्रेक पर मौत


शनिवार, 12 दिसंबर 2009

मेरी मम्मी बन गई सान्ता







प्यार हवा में

हम तुम मिले हवा में
साथ उड़े हवा में
जब आई बारी प्यार की
वो भी हुआ हवा में
अब प्यार हवा में

अब मेरा घर भी है और कार भी


रविवार, 6 दिसंबर 2009

मोरनी और मेरा जंगल

मोरनी मेरी

और मेरा ही जंगल

क्या खुबसूरत

है ये दंगल

कुछ सोचो करो

होगा तभी मंगल

नहा रहा बचपन ही देखो


एक बिनती अब तो सोचो


अब करे तैयारियां

सर्दी के दिन आए
क्रिसमस की खुशियाँ लाए
आओ करे अब तैयारियां
के बच्चे खुशी के गीत गाए
सजा ले अपने घरों को
खरीदे उपहारों को
खुशियों अलबेला मौसम
क्यों व्यर्थ गवाए
आओ करे तैयारिया
सब मिल जुल सांता बन जाए

खरगोश ...............?

तीन इच्छाए पूरी हों .....

शुक्रवार, 4 दिसंबर 2009

दरकार


ईश्क मेरा रंग लाया


वी आर नॉट इंडियन डेफिनेटली


मैं बन के चिड़िया डोलूं

फैशन रेम्प पर
दुनिया की सुंदरियों के बीच
चाहत मेरी
बन के चिड़िया डोलूं