बुधवार, 18 अगस्त 2010

जान बचाई और हाथ पैर टूटने से


कोई टिप्पणी नहीं: