रविवार, 28 नवंबर 2010

नीलगाय की उड़ान


झूठा ही सही मगर है दमदार

कोई टिप्पणी नहीं: