गुरुवार, 8 सितंबर 2011

जीवन लिखा हो मुकद्दर में तो मौत हार जाती है

कोई टिप्पणी नहीं: