शुक्रवार, 25 नवंबर 2011

Love on water & ground

ख्याल था के अब तक प्यार हवा में बढ़ता है 
पर ये देख यकीन आया 
के ये जमीन और पानी पर खिलता है 





कोई टिप्पणी नहीं: