शुक्रवार, 9 दिसंबर 2011

मुहब्बत




" एहसास ना हुआ तेरे आने का 
        पता ना चला तेरे जाने का ,
            फिर भी , 
              "मौजूदगी  तेरी  हम  जान  गए .....!

   आप कब हमसे मिल गए 
         आप कब हमसे जुदा हुए ,
            फिर भी ,
              "मुहब्बत " है आप को , हम जान गए ......!!"

कोई टिप्पणी नहीं: