सोमवार, 12 मार्च 2012

इंतज़ार



" तरसती  निगाहों को  उनके  दीदार का
           इंतज़ार  आज  भी  है ,
     तड़पती  मुहोब्बत को  अपने  पाक  इश्क का
           इंतज़ार  आज  भी  है ....................!

    अब  कैसे  बया  करे  हम  अपनी
             तड़पती  "बेकरारी " को ,
        कब्र में  दफ़न  होने को  हम  है , और ,
             खुली  इस  आँखों को  उनके  वापस
                      आनेका  "इंतज़ार " आज  भी  है ................!!

कोई टिप्पणी नहीं: