शुक्रवार, 20 अप्रैल 2012

डरते है




“ गुल  को  छूने  से  डरते  है 

          कही  वो  नाराज़  ना हो  जाए …..

  उसकी  खुशबू  दूर  से  ही  लेते  है 

          डरते  है  कही  वो  मुरझा  ना  जाए …....!

 

  आपके  सपने  देखने से  डरते  है 

          कही  आपकी  आदत  ना  लग  जाए 

  दुरसे  ही  देख  आपको  करीब  पा  लेते  है 

    डरते  है  कही  आप  हमसे  दूर  ना  हो  जाए ..…!!”

कोई टिप्पणी नहीं: