सोमवार, 23 अप्रैल 2012

शीतल तीर्थ पर प्रज्ञा पुरुषोत्तम पट्टाचार्य १०८ श्री योगीन्द्र सागर जी महाराज का समाधी मंदिर बनेगा


समाधी मंदिर कुछ इस तरह निर्मित किया जाएगा 



नीचे : 
          प्रज्ञा पुरुषोत्तम पट्टाचार्य १०८ श्री योगीन्द्र सागर जी महाराज का अस्थि कलश उनके चित्र  के समक्ष



 प्रज्ञा पुरुषोत्तम पट्टाचार्य १०८ श्री योगीन्द्र सागर जी महाराज का अस्थि कलश शीतल तीर्थ व्यवस्था समिति सदस्यों एवं समाजजनों द्वारा समाधी मंदिर के स्थान पर लाया जाकर भूमि पूजन उपरांत भूमिगत स्थापित किया गया . चित्र  उसी अवसर का 

शिर्डी के साईं बाबा ने कहा था " सब का मालिक एक " 
पट्टाचार्य श्री योगीन्द्र सागर जी महाराज ने शीतल तीर्थ के प्रकल्प को समस्त मानव समाज को साईं बाबा की तर्ज पर लाभान्वित किए जाने का मन बनाया था . उनके शिष्य सभी समाज में विद्यमान है. उन्होंने साईं बाबा की तरह अपना सूत्र " सब में मालिक एक " दिया . उक्त बात शीतल तीर्थ व्यवस्था समिति, समाज जनों , डेलनपुर एवं धामनोद के गुरु भक्त ग्रामीण जनों की बैठक में प्रकट हुई . 
आचार्य श्री का समाधि मंदिर शीघ्र ही बनाया जावे तथा यहाँ की व्यवस्था को पूर्वानुसार चलाए जाने की बात समस्त उपस्थित श्रद्धालुओं ने कही. कार्यक्रम का संचालन डॉ सविता जैन ने किया . जबकि भारत भर के दूर दराज के गुरु भक्त एवं श्रद्धालुओं ने अपनी उपस्थिति यहाँ इस महत्त्व पूर्ण बैठक के अवसर पर दी . 
महावीर गाँधी, दीपक गोधा, इंदौर के डी के जैन, भारत शर्मा (पप्पू टंच ),राजेश घोटीकर, नन्द किशोर जी सोनी,आशीष सोनी, सुभाष गंगवाल आदि ने आचार्य श्री के समाधि मंदिर को शीघ्र बनाने की बात का समर्थन करते हुए मंदिर निर्माण के लिए पृथक समिति बनाने की बात कही. जिस पर तुरंत निर्णय लिया जाकर समिति का गठन किया गया .उक्त जानकारी शीतल तीर्थ प्रवक्ता अशोक गंगवाल ने दी.

पर 

कोई टिप्पणी नहीं: