मंगलवार, 4 सितंबर 2012

शिक्षक दिवस ___ अकल हमारी, नक़ल तुम्हारी.......







और ये है नक़ल 



कोई टिप्पणी नहीं: