गुरुवार, 14 फ़रवरी 2013

प्रणय दिवस


इज़हार करने से डर भी लगता है 
और मिठास का एहसास भी
फिर 
बिखरने का भाव भी आता है 
मिल जाए तो सुख पाने का मन बन आता है 
अब क्या तो करूँ इज़हार 
जो दिख रहा हो करता खबरदार 
पर है तो खुबसूरत 
दिल है के मानता नहीं 


जहां भी हो ...............

कोई टिप्पणी नहीं: