सोमवार, 2 सितंबर 2013

इसरथुनी के पंचमुखी श्रीमहागणेश मंदिर प्रांगण के मुख्य प्रवेश द्वार की स्थापना

इसरथुनि स्थित पर पंचमुखी श्रीमहागणेश की प्रतिमा स्थापित की जा चुकी है। मंदिर का भव्य हाल निर्मित किया जा चुका है सम्पूर्ण ५ बीघा भूमि पर बाऊंड्री वाल और बगीचा बनाया जा चुका है। आज पुष्य नक्षत्र की वेला में विधि विधान से पूजन करके मंदिर प्रांगण के मुख्य प्रवेश द्वार स्थापित किया जाने का कार्य प्रारम्भ किया गया।
कार्यक्रम के प्रमुख जजमान डॉ राजेश शर्मा थे।  मंदिर निर्माण के लिए भूमि प्रदान करने का लाभ लेने वाली शहर की धर्मालु श्रीमती गुलाब बाई जाट, उनके पोते तथा मल्ल विद्या के अंतर्गत पदवी प्राप्त सूरज जाट ने भी पूजन कार्यक्रम में भागीदारी की।
४० टन वजनी लाल पत्थरों से बनाया गया मुख्य प्रवेश द्वार उत्सवपूर्वक रखे जाते समय श्री ॐ सिद्धि विनायक मंदिर ट्रस्ट  सर्व श्री सुरेन्द्र जायसवाल, ओम नारायण शर्मा तथा पंचमुखी श्री महागणेश  उत्सव आयोजन समिति के राजेश घोटीकर, दिलीप बर्वे, रमेश जोशी, राणाप्रताप सिंह सिसोदिया, प्रदीप रावल, अरविन्द व्यास, आशीष सोमानी, दिनेश चौहान तथा नगर के डॉ गिरीश गौड़, श्रीमती लक्ष्मी गौड़, श्री भट्ट , श्री मोहन भाई, मनोहर आदि अनेक धर्मालुजन उपस्थित थे.
शहर से १२ की मी दूर प्रकृति की सुरम्य गोद में इसरथुनी झरने के समीप यह मंदिर भारत भर का दूसरा बड़ा पंचमुखी गणेश मंदिर है.
झलकिया इसी कार्यक्रम की :……………………












कोई टिप्पणी नहीं: